कविता - आओ एक पेड़ लगाएं


आओ एक पेड़ लगाएं


आओ एक पेड़ लगाएं



 प्रकृति को बचाएं आओ एक पेड़ लगाएं।

 पर्यावरण हरा-भरा बनाए।

 लकड़हारा को जगाए 


आओ एक पेड़ लगाएं ।

प्रदूषण दूर हो जाता है ।


शुद्ध हवा आता है ।

मन शांति निर्मल शुभ विचार आता है ।


हरे भरे पेड़ पौधे देख कर मन हर्षित हो जाता है ।

जीव जंतु का आवास बनाए ।

आओ एक पेड़ लगाएं ।


कल्पना है मन का हरे-भरे रहे पर्यावरण ।

शुद्ध हवा हो रहे आनंदमई वातावरण ।


रंगीन दिखे नजारा वन का।

रोगमुक्त हो जन -जन का।


 पेड़ में जीवन टिका है ।

जीव जंतुओं मानव का यह जीविका  है ।


वन को कटने से बचाएं। 

आओ एक पेड़ लगाएं।


 पेड़ ऑक्सीजन प्रदायिनी है ।

कितना भी मारो पत्थर से फिर भी क्षमा दायिनी है ।


प्राचीन काल से ही यह इसे पूजा जाता है।

 ये ही हम सबका मूल्य धरोहर है।

 इसके अलावा दूजा नहीं आता है।


आओ पर्यावरण विस्तार करें।

स्वस्थ भारत अभियान करें।


प्रकृति को बचाएं।

आओ एक पेड़ लगाएं।

 आओ एक पेड़ लगाएं।

0 Comments:

कवित्री प्रेमलता ब्लॉग एक कविता का ब्लॉग है जिसमे कविता, शायरी, poem, study guide से संबंधित पोस्ट मिलेंगे
और अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहे।
Email id
Sahupremlata191@gmail.com