गीत- सांवली सूरत

सांवली सूरत मोहनी मूरत ओ बंशी बजाने वाला ।2
रास राचिया माखन चोर गाईया चराने वाला।2
घुघराले बाल काली घटा समान तेरे,
नीलकमल सा नयन गुलाब पंखुड़ियों सा होंट तेरे।
हाथ कोमल पैर माहौर ओ नंदलाला।... सांवली सूरत
दिन दयाल करुणा सागर हरी अवतार ।
दूर कर दो संकट मेरी विपत्ति को दो मार।
कान में कुण्डल ,पहने पीताम्बर     ओ ब्रजबाला।...सांवली सूरत
राधा रानी प्रेम दीवानी ,गोपियां सूद्ध बुद्ध गवाए।
प्रेम अमर बनी मूहानी , कर दो उद्धार क्यो हमको रुलाए।
नयन कजाराले, दिखे निराले ओ गोकुल वाला ।...
सांवली सूरत मोहानी मूरत ओ बंशी बजाने वाला।
सांवली सूरत मोहानी मूरत ओ बंशी बजाने वाला।
सांवली सूरत मोहानी मूरत ओ बंशी बजाने वाला।

0 Comments:

कवित्री प्रेमलता ब्लॉग एक कविता का ब्लॉग है जिसमे कविता, शायरी, poem, study guide से संबंधित पोस्ट मिलेंगे
और अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहे।
Email id
Sahupremlata191@gmail.com