नैतिक सायरी

 1) मित्रता

सच्ची मित्रता करने से भगवान भी मिल जाती है।

सुदामा जैसे के मित्रता से स्वर्ग की  सुख भी खिल जाती है।

2) दान

दान ऐसा करो जो दिखाने के लिए नहीं बल्कि नि: स्वार्थ हो।

मन पाने की इच्छा न उदार की भावार्थ हो।

3) त्याग

त्याग से भगवान भी मिल जाते है।

ध्रुव  की आस्था देख भगवान विष्णु भी पिता बन जाते है।

त्याग से ही इंसान भगवान का रूप राम बन गए।

तुलसीदास,कालिदास जैसे महाकवि भारत में खिल गए।

4) धीरज

धीर से खीर मिलती है खीर से मन को आनंद ।

धीरज है तो कौशल्या के चार पुत्र ,

पा गए राजा दशरथ परमानन्द।

5) आस्था

आस्था से भक्ति मिलती, भक्ति में ही शक्ति।

साधु संत सब भगवान को पूजते

मिल जाती माया मोह बंधन से मुक्ति।



0 Comments:

कवित्री प्रेमलता ब्लॉग एक कविता का ब्लॉग है जिसमे कविता, शायरी, poem, study guide से संबंधित पोस्ट मिलेंगे
और अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहे।
Email id
Sahupremlata191@gmail.com