कविता - कोई मिल जाता सच्चा प्यार




 कविता - कोई मिल जाता सच्चा प्यार


कोई मिल जाता सच्चा प्यार ।

कोई मिल जाता है यारों का यार ।


जो मेरी खुशी में अपनी खुशी समझे।

जो मेरी गम को अपना गम समझे।

कोई मिल जाता जीवन साथी सच्चा ।

जो सबसे अलग लाखों में हो अच्छा ।

कोई मिल जाता सच्चा प्यार ।

कोई मिल जाता यारों का यार।

मेरे ना बोलने पर भी मेरी बात समझ ले ।

मेरे मुस्कुराने से मेरा हाल समझ ले।


 नेक दिल हो कोई फरिश्ता जैसा ।

नीति के राह में चलता हो ऐसा।

 कोई मिल जाता सच्चा प्यार।

 कोई मिल जाता यारों का यार।


 चमकता सूरज का फेस हो।

 कामदेव जैसा वेश हो।

 चांद की तरह मुस्कुराना ।

समीर की तरह लहराना ।

कोई मिल जाता सच्चा प्यार।

 कोई मिल जाता यारों का यार ।


तूफान आने पर भी ना घबराए।

हिम्मतवाला न किसी से घबराएं।


हो वीर ,महावीर साहसी सहेंसा।

त्याग का प्रतीक हो रहे अहिंसा। 

कोई मिल जाता सच्चा प्यार।

 कोई मिल जाता यारों का यार।

शेर की तरह अंदाज हो।

उसकी बातें लाजवाब हो।

सबके दिलों का राजा हो।

सबसे अलग राजकुमार महराजा हो।

कोई मिल जाता सच्चा प्यार।

कोई मिल जाता यारों का यार।


ऐसे ही कविता ,सायरी या साहित्य में दिलचस्पी हो तो-

मुझे फॉलो करें

धन्यवाद🙏💐💐💐💐

0 Comments:

कवित्री प्रेमलता ब्लॉग एक कविता का ब्लॉग है जिसमे कविता, शायरी, poem, study guide से संबंधित पोस्ट मिलेंगे
और अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहे।
Email id
Sahupremlata191@gmail.com