सुप्रभात शायरी

फूलों की खुशबू खुशबुओं में झरनों की तरह बहते रहें ,
मेरी यही दुआ है रब से कि आप हमेशा खुश रहे ।

सुबह की हवाओं में मनोरमा दिखे हरियाली ,
लगातार चीटी  की तरह कोशिश करते रहे। 
अपने आप रास्ता निकल आएगा,
 दिन होगा खुशहाली।

होठों पर हो मुस्कान,
जैसे हो रातों में चांद ।
हंसते किरण के पहला सफर मुस्कुराते हुए चले,
 जीवन होगा आसान।



मोगरा, गुलाब की भीनी खुशबू मन को लुभाए,
नयी दिन की नयी उजाला सूरज रोशन लाए।
भौरों की मीठी तान फूलों के संग मंडराएं।

धीरे धीरे हवाओं का झोका चले,
रात्रि का पहर घड़ी के सुइयों के साथ कटे। 
ध्रुव तारा के मुस्कान खिले, 
दुआ है रब से सारी खुशियां तुझे मिले। 

दिन में मुस्कुराता हुआ चेहरा सूर्य को करे नमन , 
धीरे धीरे पशु पक्षी करे गमन। 
सुबह की आरामदायक हवा, 
गुनगुनाते खिले चमन। 

 पूरे दिन खुशियों में खिलखिलाते रहे, 
हमेशा खुश रहे मुस्कुराते रहे। 



🙏सुप्रभात 🙏


हर कोई किसी के मन को नहीं लुभाता है ।
हर किसी की बात दिल को नहीं भाता है। 
दिल से जिसे चाहो वही आंख खोलते ही याद आता है। 
यादों की दुनिया में रम जाता है । 


पलके झपकते ही बस तेरा चेहरा दिखाई दे। 
सुबह की हवाओं में तेरी धुन सुनाई दे। 
महकते बहारों में, हरियाली वादियों में, 
तेरे मेरे प्रेम का गवाही दे। 




 


0 Comments:

कवित्री प्रेमलता ब्लॉग एक कविता का ब्लॉग है जिसमे कविता, शायरी, poem, study guide से संबंधित पोस्ट मिलेंगे
और अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहे।
Email id
Sahupremlata191@gmail.com