कविता - चैत नवरात्रि


कविता - चैत नवरात्रि

चैत नवरात्रि कविता माता की महिमा उल्लेख  कवित्री प्रेमलता ब्लॉग एक कविता का ब्लॉग है जिसमे कविता, शायरी, poem, study guide से संबंधित पोस्ट मिलेंगे



 नई उमंग की नई ज्योति लेकर आई नवरात्रि।

नए पर्व कि मौसम सुहाने सजाई नवरात्रि।

जगमग ज्योत जवारा लहराएं।

मां दुर्गा के महिमा फहराएं।

नव दिन कि शुभ घड़ी मां भक्तों के घर आएं।

कर उपकार भक्तन भी दर्शन पाएं।

नव रूप माता की आदि शक्ति कहाएं

करुणा सागर मां ममता की नीर बहाएं।

चंड - मुंड संहार करने वाली।

मधु - कैटभ का मर्दन करने वाली।

ऋषि - मुनि तेरी महिमा गाएं।

प्रथम पूजनीय शैलपुत्री सेवक कृपा पाएं।

जग जननी महामाया मंदिर कि घंटी गूंजे।

कीर्तन भजन सब मग्न भक्ति की रस में डूबे।

चैत नवरात्रि में आए माता।

तेरी महिमा समुद्र कि लहरें भी गाता।

रखो दया हम पर शरन आए है तुम्हारे।

भक्ति न जाने माता अज्ञान है सारे।

read this also:-ब्लॉगिंग करें लाखों कमाएं

नैतिक विचार



0 Comments:

कवित्री प्रेमलता ब्लॉग एक कविता का ब्लॉग है जिसमे कविता, शायरी, poem, study guide से संबंधित पोस्ट मिलेंगे
और अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहे।
Email id
Sahupremlata191@gmail.com