Poetry -निंदिया के सपना

निदिया म सपना देख पारेव घर के चिंता देख हारेव।
दाई - ददा के कचर कचर गोठ,सूखा गे बिन पानी के होठ।
सुवारी के ताना नाना ,त भाई भवजाई के गाना।

किस्मत के ठिकाना देख डारेव,
बिन करम के गोटी मेल परेव।

पैसा के चक्कर म घूमेव शहर नगर घाट,
घूसखोरी के पाले पठेव पैसा ल दे आय पाट।

दीमाक म चिंता घेर डरेव,
हालात के हेर फेर म हरेव ।

निंदिया म सपना देख परेव....👍👌

0 Comments:

कवित्री प्रेमलता ब्लॉग एक कविता का ब्लॉग है जिसमे कविता, शायरी, poem, study guide से संबंधित पोस्ट मिलेंगे
और अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहे।
Email id
Sahupremlata191@gmail.com