कविता - तिरंगा

तिरंगा  

 

तिरंगा



 स्वतंत्रता की मांग लेगा लहराता तिरंगा ।

विकासशील भारत को गौरव शान रखकर फहराता तिरंगा ।

वीर शहीदों का गौरव शान है तिरंगा।

 इस मुल्क का पहचान है तिरंगा।

 अंग्रेजों से सर उठा कर जीना सिखाता है तिरंगा ।

आकाश की ऊंचाई ,हिमालय की चोटी में 

वीर जवानों की मुस्कान में लहराता है तिरंगा ।

भारत माता का सुल्तान है तिरंगा।

 शेर की दहाड़ कर सर ताज है तिरंगा ।

इंसानियत का ईमान है तिरंगा।

 हम सबका जान है तिरंगा।

 भारत वासियों का मान है तिरंगा ।

राष्ट्रीय प्रतीक चिन्ह गौरव गान है तिरंगा।

0 Comments:

कवित्री प्रेमलता ब्लॉग एक कविता का ब्लॉग है जिसमे कविता, शायरी, poem, study guide से संबंधित पोस्ट मिलेंगे
और अधिक जानकारी के लिए हमसे जुड़े रहे।
Email id
Sahupremlata191@gmail.com